Tuesday, May 28, 2024
Homeन्यूज़India Name Change News In Hindi Bharat नाम ज्ञान, बुद्धिमत्ता का प्रतीक

India Name Change News In Hindi Bharat नाम ज्ञान, बुद्धिमत्ता का प्रतीक

India Name Change News

स्पष्टीकरण भाव: अगर आपको यह जानने को मिले कि आपके देश का नाम बदल सकता है, तो यह शायद थोड़ी अजीब लगेगा। यह आपके मन में कई सवाल उठा सकता है। आइए मैं स्पष्ट कर दूं कि दिल्ली में आगामी जी-20 सम्मेलन के दौरान, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने डिनर के लिए आमंत्रण देते समय ‘रिपब्लिक ऑफ भारत’ के रूप में ‘रिपब्लिक ऑफ इंडिया’ की बजाय इस्तेमाल किया है, जिससे एक नई बहस को उत्पन्न हुई है। साथ ही, केंद्र सरकार ने जी-20 +9सम्मेलन के तुरंत बाद ही 18 से 22 सितंबर तक संसद का विशेष सत्र बुलाया है, जिससे इस बहस को और भी तेजी मिल गई है। राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार, इस विशेष सत्र के दौरान केंद्र सरकार द्वारा देश के नाम को ‘इंडिया’ से ‘भारत’ में बदलने का प्रस्ताव दिया जा सकता है, जैसा कि राष्ट्रपति के आमंत्रण पत्र द्वारा सुझाया जा रहा है। माना जा रहा है कि अगर यह प्रस्ताव संसद में मंजूर हो जाता है और देश का नाम ‘इंडिया’ से ‘भारत’ में बदल जाता है, तो इससे विपक्ष के I. N. D. I. A. गठबंधन को बड़ा प्रभाव पड़ सकता है।

Aaj tak

 Bharat नाम ज्ञान, बुद्धिमत्ता का प्रतीक India Name Change:

सुधारित भाषा: पश्चिमी दिल्ली के भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा के अनुसार, प्राइवेट मेम्बर बिल इस बारिक पर जोर देता है कि भारतीय संविधान में संशोधन करके “इंडिया” के नाम को “भारत” में बदला जाए। वह इस कदम से इसकी ऐतिहासिक पहचान को फिर से स्थापित करने में मदद मिलेगी का दावा करते हैं। वर्मा का कहना है कि “भारत” शब्द न केवल भारतीय संविधान में उल्लिखित है, बल्कि ऋग्वेद और महाभारत जैसे विभिन्न प्राचीन पाठों में भी पाया जाता है। यह हमारे राष्ट्र के समृद्ध इतिहास का प्रतीक है। “भारत” एक ऐसी भूमि का प्रतीक है जो ज्ञान, बुद्धिमत्ता, और आध्यात्मिक मूल्यों को संजोती है।

India Name Change पर क्या कहता है कानून:

संविधान के अनुच्छेद 1 में इसका उल्लेख है कि “इंडिया, जो कि भारत के राज्यों का एक संघ है।” यहां यह जरूर दरअसल है कि संविधान अपनी पूरी गौरवशाली महत्वपूर्णता में ‘इंडिया’ और ‘भारत’ दोनों को देश के आधिकारिक नाम के रूप में मान्यता देता है। इस संदर्भ में, एक सवाल उठता है कि क्या केंद्र सरकार ‘इंडिया’ को हटाकर ‘भारत’ को एकमात्र आधिकारिक नाम बनाने की योजना बना रही है?

यह महत्वपूर्ण है कि हम याद दिलाएं कि मार्च 2016 में ही, सुप्रीम कोर्ट ने नाम बदलने की एक याचिका पर कड़ी आपत्ति जताते हुए ‘इंडिया’ से ‘भारत’ नाम बदलने की मांग को खारिज कर दिया था। उस समय के मुख्य न्यायाधीश टीएस ठाकुर और न्यायमूर्ति यूयू ललित जैसे न्यायिक प्राधिकरण ने याचिकाकर्ता से कहा था कि इस प्रकार की याचिकाओं पर विचार नहीं किया जाएगा। उन्होंने तब कहा था कि अगर कोई व्यक्ति चाहता है कि उस देश को “भारत” या “इंडिया” कहा जाए, तो उसे ऐसा कहने की छूट दी जानी चाहिए।

उसके चार साल बाद, 2020 में, सुप्रीम कोर्ट ने फिर से ‘इंडिया’ से ‘भारत’ नाम बदलने की मांग वाली एक याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया था। उस समय कोर्ट ने सुझाव दिया था कि याचिकाकर्ता एक अभ्यावेदन में इसे परिवर्तित कर सकते हैं और उचित निर्णय के लिए केंद्र सरकार को भेजा जा सकता है। इसी समय के भारतीय सुप्रीम कोर्ट के तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे ने कहा था, “भारत और इंडिया दोनों नाम संविधान में पहले से ही ‘भारत’ के रूप में हैं।”

नाम बदलने के इस प्रक्रिया में कई चुनौतियों का सामना करना हो सकता है, खासकर अनुच्छेद 1 में संशोधन की दिशा में। इसके लिए कोई भी विधेयक संविधान के अनुच्छेद 368 का पालन करना होगा, जो साधारण बहुमत संशोधन या विशेष बहुमत संशोधन के रूप में हो सकता है। कुछ अन्य संविधान अनुच्छेदों के लिए, जिसमें अनुच्छेद 1 में शामिल है, एक विधेय

क को उपस्थित सदस्यों के कम से कम दो-तिहाई बहुमत (यानी, 66 प्रतिशत से अधिक) से पारित करने की आवश्यकता होगी।

भारत में नाम बदलने की प्रक्रिया: एक पूर्ण 3-चरण गाइड:

Rеvisеd Tonе: नाम की परिवर्तन प्रक्रिया, जैसे कि पहले से ही जाना जाता है, भारत में सामान्य होती है, लेकिन यह दुनियाभर के कई हिस्सों की तुलना में जटिल हो सकती है। हम वास्तु, अंकशास्त्र में विश्वास करते हैं, और यहाँ पर इसे उन कई समुदायों के साथ जोड़ने का संदर्भ है, जहां महिलाएं अपने विवाह के बाद अपने पहले और आखिरी नाम को बदलती हैं।

आप यह सोचकर कि यह सामान्य है, उम्मीद कर सकते हैं कि आपके नाम की परिवर्तन प्रक्रिया तेजी से होगी। लेकिन वास्तविकता में, इस प्रक्रिया में बहुत समय और प्रयास लगता है, नाम की परिवर्तन के लिए फॉर्म भरने की आवश्यकता होती है, और यहां तक ​​कि आपको एक न्यूज़पेपर के विज्ञापन भी देना पड़ता है।

यदि भी यह लंबा हो, तो नाम की परिवर्तन प्रक्रिया को काफी सरल बनाने की तकनीक है। आपको बस यह समझने की ज़रूरत है कि कैसे करें, किन कदमों को उठाना होगा, कौनसे दस्तावेज़ आवश्यक हैं, और आपको इस प्रक्रिया में आगे बढ़ने के लिए कैसे तैयारी करनी होगी। नीचे दिए गए चरणों को पढ़ें, जिससे सुनिश्चित होगा कि आपके नाम को आपकी पसंद के आद्याक्षर में बदलने के लिए आपके पास सब कुछ है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments